About Us

इस महाविद्यालय की स्थापना सन 1961 ईसवी में स्वर्गीय श्री मिश्री लाल दुबे, संस्थापक अध्यक्ष, प्रबन्ध समिति तथा स्वर्गीय श्री छेदा लाल सक्सेना, संस्थापक सचिव, प्रबंध समिति के अथक परिश्रम व प्रबंध समिति के सदस्यों के सक्रिय सहयोग से हुई। इसके विकास में भी रामशरण सक्सेना, अवकाश प्राप्त प्राचार्य का सराहनीय योगदान रहा है। इसके अतिरिक्त स्वर्गीय श्री विनायक दत्त दुबे, पूर्व अध्यक्ष स्वर्गीय श्री डोंडा जानकी प्रसाद मिश्र, स्वर्गीय श्री लालाराम जी वैध, श्री कामतो शिरोमणि सिंह मुख्तार, स्वर्गीय श्री अम्बिका प्रसाद हजेला मुख्तार, स्वर्गीय डॉ0 महेंद्र कुमार जैन, स्वर्गीय श्री श्यामलाल शुक्ल, स्वर्गीय श्री शिवनारायण सक्सेना, स्वर्गीय श्री जगदीश स्वरूप सक्सेना, स्वर्गीय डॉ0 सुरेंद्र देव शास्त्री, एवं संस्थापक सदस्य स्वर्गीय डॉ0 स्वरूप किशोर जैन जैसी महान विभूतियों को जिनकी सत्प्रेरण एवं सहयोग की छत्रछाया में महाविद्यालय पुष्पित-पल्लवित होता रहा है, हम विस्मृत नही कर सकेगे। विलक्षण प्रतिभा-सम्पन्न इन मनीषियों एवं चिंतको के भागीरथी प्रयासों से ही ज्ञान की यह पयस्विनी प्रकट हुई। तदसमय से इसमे अवगाहन करके इस अंचल के दलित, उपेक्षित, शिक्षा से वंचित पिछडेग एवं विपन्न सामान्य वर्ग के छात्र-छात्राओं ज्ञान रूपी अमूल्य माणिक्य प्राप्त करते रहे हैं। इस महाविद्यालय में अध्ययन कर चूके कतिपय छात्र प्रशासनिक एवं राजनीतिक क्षेत्रों में अपनी कीर्तिपताका फहरा चुके हैं। माहविद्यालय की स्थापना का मुख्य उद्देश्य इस क्षेत्र के निर्धन, पिछडे, अनुसूचित जाति एवं जनजाति के छात्र एवं छत्राओं को उच्च शिक्षा की सुविधायें प्रदान करना है यह महाविद्यालय राष्ट्रीय राजमार्ग(जी.टी.रोड) एवं शिकोहाबाद-फर्रुखाबाद रेलवे लाइन पर प्रकृति के सुरम्य वातावरण में स्थित है। गौरव-गरिमा से अभिमंडित यह महाविद्यालय डॉ0 भीमराव अंबेडकर विश्ववविद्यालय आगरा में अद्यावधि अपनी पहचान एवं विश्वसनीयता के लिए शलाध्य है। विज्ञान-संकाय में कंप्यूटर, भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, गणित, वनस्पति विज्ञान, एवं जंतु विज्ञान जैसे विषयों का अध्यापन, कला-संकाय में राजनीतिशास्त्र, समाजशास्त्र, भूगोल, अर्थशास्त्र, संस्कृत, हिंदी, अंग्रेजी, प्रभृति, एवं मानसिक विकास के साथ-साथ शारीरिक विकास हेतु शारीरिक शिक्षा की व्यवस्था होने से शिक्षार्थियो के सर्वागीण विकास की अपरिमित सम्भावनाये विधमान हैं। महाविद्यालय में छात्रों के शिक्षण एवं मार्ग-निर्देशन के लिए योग्य, कर्मठ एवं अनुभवी शिक्षक कार्यरत हैं। महाविद्यालय के विभिन्न विभागों में उच्चस्तरीय शोध कार्य की वयवस्था है। छात्रों के लिए सुव्यवस्थित अध्यापन कक्षो, खेलकूद का मैदान, पुस्तकालय, आदि की वयवस्था है। महाविद्यालय में शैक्षिक सुविधाओ के अतिरिक्त अन्य शिक्षणेत्तर कार्यक्रम आयोजित किये जाते है। विद्यार्थियों वियक्तित्व के समग्र एवं समुचित विकास के लिए वाद-विवाद प्रतियोगिता , कवि सम्मेलन, सांस्कृतिक कार्यक्रम, निबंध एवं कविता प्रतियोगिता का आयोजन किया जाता है। छात्रों के लेख आदि महाविद्यालय की पत्रिका "युगधारा" में प्रत्येक वर्ष छापे जाते हैं। महाविद्यालय में ऐन.सी.सी. ,रोबर्स रेंजर्स एवं ऐन.ऐस. ऐस. की समुचित व्यवस्था है। यहा इग्नू का अध्ययन केंद्र भी कार्यरत है।

महाविद्यालय के पास विशाल भवन है। अध्यापन कक्षो के अतिरिक्त विभागीय कक्षो तथा प्रयोगात्मक विषयो के लिए प्रयोगशालाओ की पृथक- पृथक वयवस्था है। पुस्तको की संख्या में प्रतिवर्ष वृद्धि हो रही है। पुस्तकालय में बुक बैंक योजना की सुविधा उपलब्ध है, जिसके अंतर्गत निर्धन वर्ग के छात्रों को पुस्तको के मूल्य का 10%जमा करने पर पूरे सत्र के लिए पाठ्य पुस्तके प्रदान की जाती हैं। विशवविद्यालय परीक्षा प्रवेश पत्र प्राप्त करने से पूर्व प्राप्त पुस्तको को जमा करना होता है। पुस्तकालय में एक वाचनालय की भी वयवस्था हैं। इसमे दैनिक समाचार पत्ररो के साथ साथ साप्ताहिक , पाक्षिक एवं मासिक पत्रिकाय उपलब्ध रहती है, जिनसे छात्र नवीनतम जानकारी प्राप्त कर लाभान्वित होते हैं।

presidents

secretaries

principals

Image Gallery

Map

Contact Us

For any query feel free to contact us.

Address: G.T. Road, Bhongaon, Mainpuri (U.P.) India 205262
Telephone: 05673 (263026)
FAX: 05673 (263026)
Others: +91 (8449560760)
E-mail: nationalpgcollege1962@gmail.com